शुक्रवार, फ़रवरी 02, 2007

लोहे का स्वाद

इसे देखो
अक्षरों के बीच घिरे हुए आदमी
को पढो
क्या तुमने सुना कि
यह लोहे की आवाज़ है या
मिट्टी में गिरे खून का रंग

लोहे का स्वाद लोहार से मत पूछो
घोङे से पूछो जिसके मुँह में लगाम है|

-सुदामा पाण्डेय 'धूमिल'

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें